कयूँ खुशी नही रहती

Lifestyle ProBlog

 

ज़िंदगी की गलियों में अकेले घूमते हम
ज़ेहन में उठते सवालों का जवाब ढूंडते हम
सँग चलते हैं इतनों के
फिर भी तन्हा ही रेहते हम

खुशी के पल आते हैं
और चले जाते हैं
फुलझडी सी रौशनी कर के
दोबारा अंधेरा छोड जाते हैं

कयूँ नही रोज़ रोज़ रहता
वो खुशी वाला समाँ
कयूँ नहीं उदासी आते ही
रुख कर लेती कहीं और का

क्या ये हमारी फ़ितरत है
या दुनिया का दस्तूर
हम ही ऐसे जीते हैं
या सभी इतने मजबूर

Something i wrote long back… just found it while deleting old stuff from my comp…

You might like these too

Hope you enjoyed reading this post. Let me know your thoughts :)